Google+ Followers

Monday, August 5, 2013

गुनगुनाना चाहता हूँ






गुनगुनाना चाहता हूँ

गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ
ग़ज़ल का ही ग़ज़ल में सन्देश देना चाहता हूँ
ग़ज़ल मरती है नहीं बिश्बास देना चाहता हूँ
गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ 
 
ग़ज़ल जीवन का चिरंतन प्राण है या समर्पण का निरापरिमाण है 
ग़ज़ल पतझड़ है नहीं फूलों भरा मधुमास है 
तृप्ती हो मन की यहाँ ऐसी अनोखी प्यास है 
ग़ज़ल के मधुमास में साबन मनाना चाहता हूँ 
गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ

ग़ज़ल में खुशियाँ भरी हैं ग़ज़ल में आंसू भरे 
या कि दामन में संजोएँ स्वर्ण के सिक्के खरे 
ग़ज़ल के अस्तित्ब को मिटते कभी देखा नहीं 
ग़ज़ल के हैं मोल सिक्कों से कभी होते नहीं 
ग़ज़ल के दर्पण में ,ग़ज़लों को दिखाना चाहता हूँ


गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ 
ग़ज़ल  दिल की बाढ़ है और मन की पीर है 
बेबसी में मन से बहता यह नयन का तीर है 
ग़ज़ल है भागीरथी और ग़ज़ल जीवन सारथी 
ग़ज़ल है पूजा हमारी ग़ज़ल मेरी आरती 
ग़ज़ल से ही स्बांस की सरगम बजाना चाहता हूँ 
गज़ल गाना चाहता हूँ ,गुनगुनाना चाहता हूँ


प्रस्तुति :
मदन मोहन सक्सेना

5 comments:

  1. शुक्रिया भाई साहब। ॐ शांति। थेंक यु बाबा।

    वाह बहुत खूब -

    तुम गजल मेरी तुम्हें मैं गुनगुनाना चाहता हूँ ,

    सात सुर की बांसुरी तुमको बजाना चाहता हूँ।

    ReplyDelete
  2. गज़लें वाकई दिल की बात कहने का बहुत ही सुरमई तरीका है ...सुन्दर !

    ReplyDelete
  3. ग़ज़ल पतझड़ है नहीं फूलों भरा मधुमास है
    तृप्ती हो मन की यहाँ ऐसी अनोखी प्यास है
    सुन्दर प्रस्तुति। बधाई।।।

    ReplyDelete