Google+ Followers

Thursday, September 5, 2013

नज़राना





 


नज़राना


  अपना दिल कभी था जो, हुआ है आज बेगाना
आकर के यूँ चुपके से, मेरे दिल में जगह पाना
दुनियां में तो अक्सर ही ,सभल कर लोग गिर जाते
मगर उनकी ये आदत है कि  गिरकर भी संभल जाना



आकर पास मेरे फिर धीरे से यूँ मुस्काना
पाकर पास मुझको फिर धीरे धीरे शरमाना
देखा तो मिली नजरें फिर नजरो का झुका जाना
ये उनकी ही अदाए  हैं ये  मुश्किल है कहीं पाना



जो बाते रहती दिल में है ,जुबां पर भी नहीं लाना
बो लम्बी झुल्फ रेशम सी और नागिन सा लहर खाना
बो नीली झील सी आँखों में दुनियां का  नजर आना
बताओ तुम दे दू क्या ,अपनी नजरो को मैं नज़राना
 
 


प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना 

2 comments:

  1. aapke blog per bhut pyari rachanaye hai.follower bhi add kre.meri side ko bhi follow kare dhanywad

    ReplyDelete
  2. aapke blog per bhut pyari rachanaye hai.follower bhi add kre.meri side ko bhi follow kare dhanywad

    ReplyDelete