Google+ Followers

Thursday, September 7, 2017

अपनी ढपली, राग भी अपना


 





प्यार मुहब्बत रिश्तों को अब ढोना किसको   भाता है
अपनी ढपली, राग भी अपना सबको यही सुहाता है 


मदन मोहन सक्सेना


No comments:

Post a Comment